इसरो की इस सफलता से चंद्रयान-2 का हुआ सफल प्रशिक्षण,

Share to the world
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

फाइल फोटो चंद्रयान-2

भारत को इस सफलता के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं सभी नेताओं में इसरो की पूरी टीम है बधाई दी वही पूरे विश्व के अन्य देश विदेश से शुभकामनाएं मिलनी शुरू हो गई हैं। भारत, अमेरिका, चीन और रूस के बाद चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग करने वाला चौथा देश होगा। पीएम मोदी ने कहा कि चंद्रयान 2 जैसे प्रयास हमारे युवाओं को विज्ञान, उच्च गुणवत्ता वाले अनुसंधान और नवाचार की ओर प्रोत्साहित करेंगे। चंद्रयान के लिए धन्यवाद, भारत के चंद्र कार्यक्रम को पर्याप्त बढ़ावा मिलेगा। राज्यसभा तथा लोकसभा में इसरो की टीम और वैज्ञानिकों को बधाई दी गई। पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इसरो की पूरी टीम को बधाई दी।

विडियो देखने के लिए:-https://youtu.be/3NNX7EVgRb4

इसरो के महत्वकांक्षी मून मिशन चंद्रयान- 2 ने दोपहर 2.43 बजे श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से उड़ान भरी। बारिश और घने बादलों के बीच चंद्रयान-2 की उड़ान को देखने के लिए हजारों की संख्या में लोग पहुंचे। जानकारी के अनुसार, अभी तक ‘बाहुबली’ नाम से चर्चित जीएसएलवी मार्क-3 रॉकेट सामान्य तरीके से काम कर रहा है।

इसरो चीफ के सिवन ने बताया कि चंद्रयान-2 की सफल लॉन्चिंग से हमने अपने तिरंगे को सम्मान दिया है। जीएसलवी मार्क-3 के जरिए चंद्रयान-2 की सफलता पूर्वक लॉन्चिंग हुई। सैटलाइट से चन्द्रयान-2 के अंतरिक्ष की कक्षा में पहुंचने का सिग्नल मिल गया। जीएसलवी मार्क-3 के जरिए चंद्रयान-2 की सफलता पूर्वक लॉन्चिंग हुई। 7 सिंतबर को विक्रम लैंडर चांद की सतह पर उतरेगा। इसके बाद रोवर प्रज्ञान चांद की सतह की जानकारी देगा। यह चांद की तरफ भारत की ऐतिहासिक यात्रा की शुरुआत हुई।

उन्होंने कहा कि चंद्रयान-2 चांद के साउथ पोल पर उतरेगा। हमने चंद्रयान-2 की तकनीकी दिक्कत दूर कर इस मिशन को अंतरिक्ष में भेजा। हमने तकनीकी दिक्कत की जांच कर तुरंत इसे दूर किया था। टीम इसरो के इंजिनियर, टेक्निकल स्टाफ की कठोर मेहनत से ही हम यहां पहुंचे हैं। अभी टास्क खत्म नहीं हुआ है। हमें अपने अगले मिशन पर लगना है। हम हर बार की तरह अपने मैनेजमेंट की तरफ से दिए गए काम को पूरा करेंगे। 

विडियो देखने के लिए:-https://youtu.be/3NNX7EVgRb4

1,442 total views, 2 views today


Share to the world
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »