हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी की दिनदहाड़े घर में घुसकर गला रेत कर हुई हत्या,

Share to the world
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

फाइल फोटो कमलेश तिवारी

लखनऊ। हिंदू समाज पार्टी के कट्टर हिंदूवादी कहे जाने वाले राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी को उनके कार्यालय लखनऊ के थाना नाका क्षेत्र के अंतर्गत खुर्शेदबाग में दो अज्ञात युवको ने उनके कार्यालय में आकर दोपहर लगभग 12:30 बजे के आसपास उन की गला रेत कर हत्या कर दिया। उनकी हत्या की सूचना पाकर पूरे इलाके में सनसनी फैल गई देखते ही देखते  हिंदू समाज पार्टी के कार्यकर्ता बड़ी संख्या पर मौके पर पहुंचकर धरना प्रदर्शन चालू कर दिया और आसपास के इलाके की सारी मार्केटो को बंद करवा कर रोड जाम कर दिया । इतना ही नहीं धीरे-धीरे कार्यकर्ताओं का हुजूम कार्यालय पर उमड़ने ने लगा, जिसको देख मौके पर 15 थानों की फोर्स के साथ-साथ आर.ए.एफ की फोर्स को लगवाना पड़ गया। जिसके बाद मौके पर सभी आला अधिकारी पुलिस अफसर मौके पर पहुंच कर घटना की जांच की।

सौराष्ट्र सिंह (नौकर)

चश्मदीद गवाह-  घर पर खाना बनाने का कार्य करने वाला सौराष्ट्र सिंह के अनुसार  कमलेश तिवारी अपने खुर्शीद बाग कार्यालय में अकेले थे पहले उनके पास फोन आया कि उन्हें हिंदू समाज पार्टी ज्वाइन करनी है  जिसको लेकर  कमलेश तिवारी जी ने  उनको अपने कार्यालय पर  मिलने का समय दिया और कुछ ही समय के बाद 2 व्यक्ति उम्र लगभग 30 से 35 वर्ष के आस पास के लोग उनसे मिलने आये। वह दो लोग एक मिठाई का डिब्बा जिस पर धरती नमकीन जोकि सूरत गुजरात की बताई जा रही है, वह मिठाई का डिब्बा लेकर उनके कार्यालय पहुंचे जिसमें एक पिस्टल और एक चाकू बताया जा रहा है। उन लोगों ने काफी समय तक कमलेश तिवारी जी से चर्चा की और चाय पानी नाश्ता किया। जिसके बाद कमलेश तिवारी के कार्यालय में कार्यरत कार्यकर्ता सौराष्ट्र सिंह को कार्यालय पर आए हुए युवकों ने कुछ पैसे देकर सिगरेट लाने को बोला जिसके बाद सौराष्ट्र सिंह जल्द ही वापस आ गया, जिसके बाद तिवारी जी ने मसाला लाने को पुनः उसको फिर भेजा, जिसके बाद सौराष्ट्र जब वापस आया तो उसने कमलेश तिवारी जी को कमरे में खून से लथ-पथ और तिवारी जी का गला रेता हुआ देखा जिसको देखकर सौराष्ट्र सिंह के हाथ-पैर फूल गए, और उसने शोर मचा कर स्थानीय लोगों को इकट्ठा किया, और अपने परिजनों को इस घटना की सूचना दी और कमलेश तिवारी जी को लेकर लखनऊ के ट्रामा सेंटर अस्पताल पहुंचे जहां डॉक्टरों ने उनको मृत घोषित  कर दिया। कमलेश तिवारी जी की मृत्यु  की सूचना पाकर उनके कार्यकर्ताओं में आक्रोश पैदा हो गया, जिसको लेकर उनके कार्यकर्ताओं ने लखनऊ में जगह-जगह जाम और प्रदर्शन चालू कर दिया भारी मात्रा में  कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन देख  प्रशासन के हाथ पांव फूल गए जिसके कारण पूरे लखनऊ में काफी सुरक्षाबलों को जगह-जगह तैनात किया गया।


कौन है कमलेश तिवारी:-
 हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी जोकि अपने भाषण व अपने कट्टर हिंदूवादी सोच की वजह से काफी चर्चाओं में रहते थे। सन 2015 में जब समाजवादी पार्टी की सरकार में उन्होंने मुस्लिम समुदाय के पैगंबर के बारे में कुछ अपशब्द बयान बोले थे, जिसको लेकर वह काफी चर्चाओं में आए और उनके ऊपर रासुका जैसी गंभीर धाराएं भी लगी जिसको लेकर वह काफी लंबे समय तक जेल  में रहकर उन्होंने सजा भी काटी और उसके बाद वह काफी चर्चा में बने रहे। जिसको लेकर मुस्लिम समुदाय के कई धर्मगुरुओं ने कई प्रकार के फतवे जारी किए, और कई धर्म गुरुओं ने उनको मार देने तक का  एलान किया था । जहां तक कमलेश तिवारी को मारने वाले  को पैसा  देने की भी कई धर्मगुरुओं और मुस्लिम समुदाय के लोगों ने कहा था।  जिसका वीडियो  काफी सोशल मीडिया पर और कई चैनलों ने  दिखाया था । मगर बीजेपी की  सरकार आने के बाद उनको रिहा कर दिया गया।  जिसके बाद उनको सुरक्षा मुहैया कराई गई जिसके साथ 2017 में कुछ  सुरक्षा एजेंसी व ए.टी.एस ने  कमलेश तिवारी को जान से मार देने की सूचना के इनपुट सेंट्रल गवर्नमेंट को दिए थे । यहां तक isis जैसे आतंकी संगठन ने भी कमलेश तिवारी को मार डालने तक को कहा था। जिसके बावजूद भी इनको सुरक्षा मुहैया ठीक से नहीं कराई गई थी। जिसके बाद उनको जो भी सुरक्षा उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से दी गई थी उसमें से भी उत्तर प्रदेश सरकार ने वापस करा लिया था। उनके पास खाली मौजूदा स्थिति में एक ही गार्ड था। जिसके पास कोई भी हथियार नही था।। मगर आखिर पुलिस अधिकारियों से ऐसी गलती कैसे और क्यों हुई अब ये तो जाँच का विषय है।

वही कमलेश तिवारी की पत्नी की तहरीर पर लखनऊ के नाका थाने में दर्ज हुई एफआईआर,बिजनौर के मौलाना मुफ्ती नईम काजमी, व इमाम मौलाना अनवारूल हक, के नामजद व एक अज्ञात के खिलाफ दर्ज कराया मुकदमा,
आप को बता दे कि तीन साल पहले 2016 में मौलानाओं के द्वारा कमलेश तिवारी का सिर कलम करने पर रखा 
बिजनौर निवासी इमाम मौलाना अनुवारुल हक ने 1.5 करोड़ का व बिजनौर जनपद के ही भनेड़ा थाना क्षेत्र के कीरतपुर निवासी मो०मुफ्ती नईम काज़मी ने 51 लाख रुपए का इनाम घोषित किया था।

469 total views, 2 views today


Share to the world
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »