उर्दू सहाफत को फ़रोग देने में अल्लामा ज़मीर नक़वी का अह़म किरदार

Share to the world
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

लखनऊ । राष्ट्रीय उर्दू भाषा विकास परिषद मानव संसाधन विकास मंत्रालय भारत सरकार नई दिल्ली के सहयोग एवं दिशा निर्देशन के तहत ‘अर रहमान एजुकेशनल सोसाईटी लखनऊ‘ के बैनर के तह़त एक राष्ट्रीय सेमिनार सोसाईटी के ओडोटोरियम मेहताब बाग़ लखनऊ में आज शनिवार को आयोजित हुआ जिसका मुख्य विषय उर्दू सहाफत को फ़रोग देने में ‘अल्लामा ज़मीर नक़वी का अहम किरदार था। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि काएद ए मिल्लत मौलाना सैयद कल्बे जवाद नक़वी ईमाम ए जुमा शाही मस्जिद आसिफी, लखनऊ ने शाल ओढ़ा कर वरिष्ठ पत्रकार अल्लामा ज़मीर नक़वी का सम्मान किया। मौलाना सैयद कल्बे जवाद नक़वी ने सेमिनार को खिताब करते हुए अल्लामा ज़मीर नक़वी की सहाफ़ती खिदमात और बेवाकी व मुन्सिफाना किरदार पर रौशनी डाली। मौलाना ने कहा कि सहाफ़त का ज़ज्बा दर अस्ल ग़रीब व कमजोर तबके के हक़ में आवाज उठाना है, मौलाना ने सहाफ़त को समाज को बनाने और मुआशरे को बिगाड़ने में अहम ज़रिया बताया, मौलाना ने कहा कि सहाफ़ियों को कमजोर व ग़रीब तबके की मदद करना चाहिये क्योंकि येह तबका हर जरूरत के वक्त मदद करता है जबकि किसी बड़े व ताकतवर के हक़ में मदद करने के बावजूद उनसे किसी मदद कि उम्मीद नही करनी चाहिये, मौलाना ने कहा कि मुझे तो हमेशा ग़रीब व कमजोर तबके ने मेरा साथ दिया है।
मेहमान ए खुसूसी मीर ज़ाफर नवाब अब्दुल्लाह ने तक़रीर करते हुए उर्दू सहाफत को फ़रोग देने में अल्लामा ज़मीर नक़वी की खिदमात पर रौशनी डाली, उन्होनें उर्दू जुबान की तहज़ीब पर जोर डाला और मौजूदा दौर की नई नस्ल में उर्दू से उन्सियत और उर्दू तहज़ीब के फ़रोग के लिये मौलाना कल्बे जवाद से नमाज़ ए जुमा के खुत्बों पर इस बात को उजागर करने की दरख्वास्त की। अल्लामा ज़मीर नक़वी की पत्रकारिता पर बोलते हुए नवाब जाफर मीर अब्दुल्लाह ने कहा कि अल्लामा ज़मीर नक़वी को तीन-तीन फ्लैटस व क़ैश देने के एक एम.एल.सी ने ऑफर दिया किन्तु अल्लामा ज़मीर नक़वी ने उस ऑफर को ठुकरा कर अपनी पत्रकारिता की धार को समाप्त नही किया, जिस कारण वह भाजपा नेता आज तक अपने फ्लैटस सौदा नही कर सके है, अल्लामा ज़मीर नक़वी ने अपने सम्बोधन से सेमिनार का उदघाटन करते हुए कहा कि हमारे क़लम को जो धार मिली व बेबाक आलोचना की शक्ति अली कांग्रेस संस्था के आन्दोलन से प्राप्त हुई,यही कारण है कि वह अपनी तहरीरों से कोई समझौता नही किया और बड़े-बड़ों को उनकी औकात दिखा दिया, अल्लामा ज़मीर नक़वी ने राज्यपाल की पुस्तक ‘चरैवेति की आलोचना करने में भी किसी प्रकार का संकोच नही किया और अपनी क़लम की ताक़त का आभास राज्यपाल व उनके सचिवालय को भी दिखा दिया, अपने अन्तिम समापन सम्बोधन में संस्था के अध्यक्ष अनवर अब्बास रानू ने अपने संस्था के कार्यों पर प्रकाश डालते हुए सभी का आभार प्रकट किया।

60 total views, 1 views today


Share to the world
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »